IPC 4 In Hindi | IPC Section 4 in Hindi | आईपीसी धारा 4 क्या है

इस पोस्ट मे आपको Indian Penal Code (IPC) की IPC 4 In Hindi मे जानकारी दी गई है। इसमे मैने पूरी तरह से IPC 4 In English की पूरी जानकारी मैने दी है।

क्योंकि इसकी जानकारी हर एक अधिवक्ता व वकील को तो होनी ही चाहिए तथा अगर आप पुलिस मे है या फिर आप विधि से संबंधित छात्र हैं तो भी आपको IPC Section 4 In Hindi के बारे मे जानकारी जरूर होनी चाहिए। जिससे की आप कहीं कभी फसें नहीं और न ही कोई आपको दलीलो मे फंसा सके। तो चलिए जानते है IPC 4 Kya Hai.

Dhara 4 Kya Hai

इस ipcsection.com पोर्टल के माध्यम से यहाँ धारा 4 क्या बताती है ? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी और आपको धारा 4 के बारे मे सारी जानकारी हो जाएगी। साथ ही यह पोर्टल www.ipcsection.com पर और भी अन्य प्रकार के भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में मैने काफी विस्तार से बताया गया है आप उन Posts के माध्यम से अन्य धाराओं यानी section के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

IPC Section 4 In Hindi

IPC Dhara 4 – अतिरिक्त क्षेत्रीय अपराधों के लिए संहिता का विस्तार
इस संहिता के प्रावधान निम्नलिखित द्वारा किए गए किसी भी अपराध पर भी लागू होते हैं-
(1) भारत के बाहर और उसके बाहर किसी भी स्थान पर भारत का कोई भी नागरिक;
(2) भारत में पंजीकृत किसी जहाज या वायुयान पर कोई व्यक्ति, चाहे वह कहीं भी हो।
(3) भारत के बाहर और बाहर किसी भी स्थान पर कोई भी व्यक्ति भारत में स्थित कंप्यूटर संसाधन को निशाना बनाकर अपराध करता है।

व्याख्या – इस खंड में
(ए) शब्द “अपराध” में भारत के बाहर किया गया प्रत्येक कार्य शामिल है, जो यदि भारत में किया जाता है, तो इस संहिता के तहत दंडनीय होगा;
(बी) अभिव्यक्ति “कंप्यूटर संसाधन” का अर्थ सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 (2000 का 21) की धारा 2 की उप-धारा (1) के खंड (के) में है।’

IPC Section 4 In English

IPC Section 4 – Extension of Code to extra-territorial offences
The provisions of this Code apply also to any offence committed by–
(1) any citizen of India in any place without and beyond India;
(2) any person on any ship or aircraft registered in India wherever it may be.
(3) any person in any place without and beyond India committing offence targeting a computer resource located in India.

Explanation – In this section
(a) the word “offence” includes every act committed outside India which, if committed in India, would be punishable under this Code;
(b) the expression “computer resource” shall have the meaning assigned to it in clause (k) of sub-section (1) of section 2 of the Information Technology Act, 2000(21 of 2000).’

आईपीसी धारा 4 क्या है

  1. मूल खंड के लिए 1898 के अधिनियम 4, धारा 2 द्वारा प्रतिस्थापित।
  2. ए.ओ द्वारा प्रतिस्थापित। 1950, खंड (1) से (4) के लिए।
  3. शब्द “ब्रिटिश इंडिया” को ए.ओ. द्वारा क्रमिक रूप से संशोधित किया गया है। 1948, ए.ओ. 1950 और 1951 का अधिनियम 3, धारा 3 और अनुसूची ऊपर के रूप में पढ़ने के लिए।
  4. “चित्र” (17-9-1957 से प्रभावी) के लिए 1957 के अधिनियम 36, धारा 3 और अनुसूची II द्वारा प्रतिस्थापित।
  5. 1957 के अधिनियम 36, धारा 3 और अनुसूची II (17-9-1957 से प्रभावी) द्वारा छोड़े गए कोष्ठक और अक्षर “(ए)”।
  6. ए.ओ द्वारा प्रतिस्थापित। 1948, “एक कुली, जो एक मूल भारतीय विषय है” के लिए।
  7. ए.ओ द्वारा प्रतिस्थापित। 1950, “भारतीय अधिवास का एक ब्रिटिश विषय” के लिए।
  8. ए.ओ द्वारा छोड़े गए उदाहरण (बी), (सी) और (डी) 1950.
  9. सूचना प्रौद्योगिकी (संशोधन) अधिनियम, 2008 (2009 का 10), धारा 51 द्वारा 0.4.1. 27.10.2009।

अन्य महत्वपूर्ण धाराएं

IPC 1 IN HINDI
IPC 2 IN HINDI
IPC 3 In Hindi
IPC 5 IN HINDI

तो आपक IPC 4 In Hindi और IPC Section 4 In Hindi की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने IPC Dhara 4 Kya Hota Hai इसकी पूरी जानकारी दैदी है। बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *