IPC 62 In Hindi | IPC Section 62 in Hindi | आईपीसी धारा 62 क्या है

इस पोस्ट मे आपको Indian Penal Code (IPC) की IPC 62 In Hindi मे जानकारी दी गई है। इसमे मैने पूरी तरह से IPC 62 In English की पूरी जानकारी मैने दी है।

क्योंकि इसकी जानकारी हर एक अधिवक्ता व वकील को तो होनी ही चाहिए तथा अगर आप पुलिस मे है या फिर आप विधि से संबंधित छात्र हैं तो भी आपको IPC Section 62 In Hindi के बारे मे जानकारी जरूर होनी चाहिए। जिससे की आप कहीं कभी फसें नहीं और न ही कोई आपको दलीलो मे फंसा सके। तो चलिए जानते है IPC 62 Kya Hai.

Dhara 62 Kya Hai

इस ipcsection.com पोर्टल के माध्यम से यहाँ धारा 62 क्या बताती है ? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी और आपको धारा 62 IPC In Hindi के बारे मे सारी जानकारी हो जाएगी। साथ ही यह पोर्टल www.ipcsection.com पर और भी अन्य प्रकार के भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में मैने काफी विस्तार से बताया गया है आप उन Posts के माध्यम से अन्य धाराओं यानी section के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

IPC 62 In Hindi

IPC Dhara 62 – मृत्यु, परिवहन या कारावास से दंडनीय अपराधियों के संबंध में संपत्ति की जब्ती
जब भी किसी व्यक्ति को मृत्युदंड के अपराध के लिए दोषी ठहराया जाता है, तो न्यायालय यह निर्णय ले सकता है कि उसकी सभी चल और अचल संपत्ति, सरकार को जब्त कर ली जाएगी; जब कभी किसी व्यक्ति को किसी ऐसे अपराध के लिए दोषी ठहराया जाएगा जिसके लिए उसे ले जाया जाएगा, या सात साल या उससे अधिक की अवधि के लिए कारावास की सजा सुनाई जाएगी, तो न्यायालय यह निर्णय ले सकता है कि अवधि के दौरान उसकी सभी चल और अचल संपत्ति के किराए और लाभ उनके परिवार और आश्रितों के लिए इस तरह के प्रावधान के अधीन, सरकार को उनके परिवहन या कारावास को जब्त कर लिया जाएगा, जैसा कि सरकार ऐसी अवधि के दौरान अनुमति देने के लिए उपयुक्त समझ सकती है।
भारतीय दंड संहिता (संशोधन) अधिनियम, 1921 (1921 का 16) धारा 4 द्वारा छोड़ा गया, पिछला पाठ ऊपर था।

IPC Section 62 In English

IPC Section 62 – Forfeiture of property in respect of offenders punishable with death, transportation or imprisonment
Whenever any person is convicted of an offence punishable with death, the Court may adjudge that all his property, moveable and immovable, shall be forfeited to Government ; add when ever any person shall be convicted of any offence for which he shall be transported, or sentenced to imprisonment for a term of seven years or upwards, the Court may adjudge that the rents and profits of all his movable and immovable estate during the period of his transportation ;or imprisonment, shall be forfeited to Government, subject to such provision for his family and dependants as the Government may think fit to allow during such period.
Omitted by the Indian Penal Code (Amendment) Act, 1921 (16 of 1921) section 4, the previous text was above.

आईपीसी धारा 62 क्या है

62 IPC मे शब्द मृत्यु, परिवहन या कारावास से दंडनीय अपराधियों के संबंध में संपत्ति की जब्तीके बारे मे बताया गया है। जिसमे जब भी किसी व्यक्ति को मृत्युदंड के अपराध के लिए दोषी ठहराया जाता है, तो न्यायालय यह निर्णय ले सकता है कि उसकी सभी चल और अचल संपत्ति, सरकार को जब्त कर ली जाएगी; जब कभी किसी व्यक्ति को किसी ऐसे अपराध के लिए दोषी ठहराया जाएगा

अन्य महत्वपूर्ण धाराएं

IPC 61 IN HINDI
IPC 52 IN HINDI
IPC 53 IN HINDI
IPC 54 IN HINDI
IPC 55 IN HINDI
IPC 56 IN HINDI
IPC 57 IN HINDI
IPC 58 IN HINDI
IPC 59 IN HINDI
IPC 60 IN HINDI

तो आपक IPC 62 In Hindi और IPC Section 62 In Hindi की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने IPC Dhara 62 Kya Hota Hai इसकी पूरी जानकारी दैदी है। बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Leave a Comment