IPC 53A In Hindi | IPC Section 53A in Hindi | आईपीसी धारा 53A क्या है

इस पोस्ट मे आपको Indian Penal Code (IPC) की IPC 53A In Hindi मे जानकारी दी गई है। इसमे मैने पूरी तरह से IPC 53A In English की पूरी जानकारी मैने दी है।

क्योंकि इसकी जानकारी हर एक अधिवक्ता व वकील को तो होनी ही चाहिए तथा अगर आप पुलिस मे है या फिर आप विधि से संबंधित छात्र हैं तो भी आपको IPC Section 53A In Hindi के बारे मे जानकारी जरूर होनी चाहिए। जिससे की आप कहीं कभी फसें नहीं और न ही कोई आपको दलीलो मे फंसा सके। तो चलिए जानते है IPC 53A Kya Hai.

Dhara 53A Kya Hai

इस ipcsection.com पोर्टल के माध्यम से यहाँ धारा 53A क्या बताती है ? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी और आपको धारा 53A IPC In Hindi के बारे मे सारी जानकारी हो जाएगी। साथ ही यह पोर्टल www.ipcsection.com पर और भी अन्य प्रकार के भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में मैने काफी विस्तार से बताया गया है आप उन Posts के माध्यम से अन्य धाराओं यानी section के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

IPC 53A In Hindi

IPC Dhara 53ए – परिवहन के संदर्भ का निर्माण
Dhara 53A
(1) उप-धारा (2) और उप-धारा (3) के प्रावधानों के अधीन, किसी भी अन्य कानून में “जीवन के लिए परिवहन” का कोई संदर्भ या किसी भी उपकरण या आदेश में गुण से प्रभाव पड़ता है ऐसे किसी भी कानून या निरस्त किए गए किसी भी अधिनियम को “आजीवन कारावास” के संदर्भ के रूप में माना जाएगा।
Dhara 53A(2) प्रत्येक मामले में जिसमें दंड प्रक्रिया संहिता (संशोधन) अधिनियम, 1955 (1955 का 26) के प्रारंभ से पहले एक अवधि के लिए परिवहन की सजा पारित की गई है, अपराधी के साथ उसी तरीके से निपटा जाएगा जैसे यदि समान अवधि के लिए कठोर कारावास की सजा सुनाई जाती है।

Dhara 53A(3) किसी अवधि के लिए परिवहन के लिए या किसी भी छोटी अवधि के लिए परिवहन के लिए कोई संदर्भ (चाहे वह किसी भी नाम से जाना जाता हो) किसी भी अन्य कानून में जो कुछ समय के लिए लागू है, को छोड़ दिया गया माना जाएगा।
Dhara 53A(4) वर्तमान में लागू किसी अन्य कानून में “परिवहन” का कोई संदर्भ-
(ए) यदि अभिव्यक्ति का अर्थ जीवन के लिए परिवहन है, तो इसे आजीवन कारावास के संदर्भ के रूप में माना जाएगा;
(ख) अभिव्यक्ति किसी भी छोटी अवधि के लिए परिवहन का मतलब है कि अगर छोड़ दिए गए हैं समझा जाएगा।

IPC Section 53A In English

IPC Section 53A – Construction of reference to transportation
IPC 53A
(1) Subject to the provisions of sub-section (2) and sub-section (3), any reference to “transportation for life” in any other law for the time being in force or in any instrument or order having effect by virtue of any such law or of any enactment repealed shall be construed as a reference to “imprisonment for life”.
IPC 53A(2) In every case in which a sentence of transportation for a term has been passed before the commencement of the Code of Criminal Procedure (Amendment) Act, 1955 (26 of 1955), the offender shall be dealt with in the same manner as if sentenced to rigorous imprisonment for the same term.

IPC 53A(3) Any reference to transportation for a term or to transporta­tion for any shorter term (by whatever name called) in any other law for the time being in force shall be deemed to have been omitted.
IPC 53A(4) Any reference to “transportation” in any other law for the time being in force shall—
(a) if the expression means transportation for life, be construed as a reference to imprisonment for life;
(b) if the expression means transportation for any shorter term, be deemed to have been omitted.

आईपीसी धारा 53A क्या है

53A IPC मे शब्द परिवहन के संदर्भ का निर्माणके बारे मे बताया गया है, जिसमे उप-धारा (2) और उप-धारा (3) के प्रावधानों के अधीन, किसी अन्य कानून में “जीवन के लिए परिवहन” का कोई संदर्भ या किसी भी साधन या आदेश में गुण से प्रभाव इस तरह के किसी भी कानून या निरस्त किए गए किसी अधिनियम को “आजीवन कारावास” के संदर्भ के रूप में माना जाएगा।

अन्य महत्वपूर्ण धाराएं

IPC 51 IN HINDI
IPC 52A IN HINDI
IPC 43 IN HINDI
IPC 44 IN HINDI
IPC 45 IN HINDI
IPC 46 IN HINDI
IPC 47 IN HINDI
IPC 48 IN HINDI
IPC 49 IN HINDI
IPC 50 IN HINDI

तो आपक IPC 53A In Hindi और IPC Section 53A In Hindi की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने IPC Dhara 53A Kya Hota Hai इसकी पूरी जानकारी दैदी है। बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *