IPC 508 In Hindi | IPC Section 508 in Hindi | आईपीसी धारा 508 क्या है?

इस पोस्ट मे आपको Indian Penal Code (IPC) की IPC 508 In Hindi मे जानकारी दी गई है। इसमे मैने पूरी तरह से IPC 508 In English की पूरी जानकारी मैने दी है।

क्योंकि इसकी जानकारी हर एक अधिवक्ता व वकील को तो होनी ही चाहिए तथा अगर आप पुलिस मे है या फिर आप विधि से संबंधित छात्र हैं तो भी आपको IPC Section 508 In Hindi के बारे मे जानकारी जरूर होनी चाहिए। जिससे की आप कहीं कभी फंसें नहीं और न ही कोई आपको दलीलों में फंसा सके। तो चलिए जानते है IPC Dhara 508 Kya Hai.

Dhara 508 Kya Hai

इस ipcsection.com पोर्टल के माध्यम से यहाँ ipc dhara 508 क्या बताती है? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी और आपको धारा 508 के बारे मे सारी जानकारी हो जाएगी। साथ ही यह पोर्टल IPCSECTION.com पर और भी अन्य प्रकार के भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में मैंने काफी विस्तार से बताया गया है आप उन Posts के माध्यम से अन्य धाराओं यानी section के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

IPC 508 In Hindi

508 IPC In Hindi – व्यक्ति को यह विश्वास दिलाने के लिए उत्प्रेरित करने वाला कृत्य कि वह दैवीय अप्रसन्नता का पात्र बन जाएगा।
जो कोई भी स्वेच्छा से किसी व्यक्ति को कुछ ऐसा करने के लिए प्रेरित करता है या करने का प्रयास करता है जिसे करने के लिए वह व्यक्ति कानूनी रूप से बाध्य नहीं है, या किसी भी चीज को करने के लिए जिसे वह कानूनी तौर पर करने का हकदार है, उस व्यक्ति को यह विश्वास दिलाने के लिए उत्प्रेरित या प्रेरित करने का प्रयास करता है कि वह या कोई जिस व्यक्ति में वह रुचि रखता है, वह अपराधी के किसी कृत्य से दैवीय अप्रसन्नता का पात्र बन जाएगा या बन जाएगा यदि वह वह काम नहीं करता है जो अपराधी का उद्देश्य उससे करवाना है, या यदि वह वह काम करता है जिसे छोड़ने का अपराधी का उद्देश्य है, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि एक वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दंडित किया जाएगा।

रेखांकन
(ए) यह विश्वास करने के इरादे से जेड के दरवाजे पर धरना बैठता है कि, इस तरह बैठने से, वह जेड को दैवीय नाराजगी की वस्तु बना देता है। ए ने इस खंड में परिभाषित अपराध किया है।
(b) A, Z को धमकी देता है कि, जब तक Z एक निश्चित कार्य नहीं करता है, A, A के अपने बच्चों में से एक को मार डालेगा, ऐसी परिस्थितियों में कि हत्या को Z को दैवीय नाराजगी की वस्तु माना जाएगा। ए ने इस खंड में परिभाषित अपराध किया है।
अपराध का वर्गीकरण
सजा- 1 वर्ष के लिए कारावास, या जुर्माना, या दोनों- गैर-संज्ञेय-जमानती-किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय-उस व्यक्ति द्वारा समझौता किया जा सकता है जिसके खिलाफ अपराध किया गया था।

ipc sections hindi english

IPC Section 508 In English

IPC Section 508 – Act caused by inducing person to believe that he will be rendered an object of the Divine displeasure.
Whoever voluntari­ly causes or attempts to cause any person to do anything which that person is not legally bound to do, or to omit to do anything which he is legally entitled to do, by inducing or attempting to induce that person to believe that he or any person in whom he is interested will become or will be rendered by some act of the offender an object of Divine displeasure if he does not do the thing which it is the object of the offender to cause him to do, or if he does the thing which it is the object of the offender to cause him to omit, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to one year, or with fine, or with both.

Illustrations
(a) A sits dhurna at Z’s door with the intention of causing it to be believed that, by so sitting, he renders Z an object of Divine displeasure. A has committed the offence defined in this section.
(b) A threatens Z that, unless Z performs a certain act, A will kill one of A’s own children, under such circumstances that the killing would be believed to render Z an object of Divine dis­pleasure. A has committed the offence defined in this section.
CLASSIFICATION OF OFFENCE Punishment—Imprisonment for 1 year, or fine, or both—Non-cogniza­ble—Bailable—Triable by any Magistrate—Compoundable by the person against whom the offence was committed.

Note – If you have any issue so prefer only English Verison of this IPC section.

IPC 508 Kya Hai?

Other Important Acts

IPC 501 IN HINDI
IPC 502 IN HINDI
IPC 503 IN HINDI
IPC 504 IN HINDI
IPC 505 IN HINDI
IPC 506 IN HINDI
IPC 507 IN HINDI
IPC 498 IN HINDI
IPC 499 IN HINDI
IPC 500 IN HINDI

तो आपक IPC 508 In Hindi और IPC Section 508 की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने 508 IPC dhara in hindi में इसकी पूरी जानकारी देदी है। बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *