IPC 505 In Hindi | IPC Section 505 in Hindi | आईपीसी धारा 505 क्या है?

इस पोस्ट मे आपको Indian Penal Code (IPC) की IPC 505 In Hindi मे जानकारी दी गई है। इसमे मैने पूरी तरह से IPC 505 In English की पूरी जानकारी मैने दी है।

क्योंकि इसकी जानकारी हर एक अधिवक्ता व वकील को तो होनी ही चाहिए तथा अगर आप पुलिस मे है या फिर आप विधि से संबंधित छात्र हैं तो भी आपको IPC Section 505 In Hindi के बारे मे जानकारी जरूर होनी चाहिए। जिससे की आप कहीं कभी फंसें नहीं और न ही कोई आपको दलीलों में फंसा सके। तो चलिए जानते है IPC Dhara 505 Kya Hai.

Dhara 505 Kya Hai

इस ipcsection.com पोर्टल के माध्यम से यहाँ ipc dhara 505 क्या बताती है? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी और आपको धारा 505 के बारे मे सारी जानकारी हो जाएगी। साथ ही यह पोर्टल IPCSECTION.com पर और भी अन्य प्रकार के भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में मैंने काफी विस्तार से बताया गया है आप उन Posts के माध्यम से अन्य धाराओं यानी section के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

IPC 505 In Hindi

505 IPC In Hindi – सार्वजनिक शरारत करने वाले बयान।
(1) जो कोई भी बयान, अफवाह या रिपोर्ट करता है, प्रकाशित करता है या प्रसारित करता है-
(क)
भारत की सेना, नौसेना या वायु सेना के किसी अधिकारी, सैनिक, [नाविक या वायुसैनिक] को विद्रोह करने या अन्यथा अपने कर्तव्य की अवहेलना करने या विफल करने के इरादे से, या कारण बनने की संभावना है; या
(बी) इस इरादे से, या जिससे जनता या जनता के किसी भी वर्ग के लिए डर या अलार्म पैदा होने की संभावना है, जिससे किसी व्यक्ति को राज्य के खिलाफ या सार्वजनिक शांति के खिलाफ अपराध करने के लिए प्रेरित किया जा सकता है; या
(सी) किसी वर्ग या समुदाय के लोगों को किसी अन्य वर्ग या समुदाय के खिलाफ कोई अपराध करने के लिए उकसाने के इरादे से या उकसाने की संभावना के साथ, कारावास से दंडित किया जाएगा जो 6 [तीन साल] तक बढ़ सकता है, या जुर्माना , या दोनों के साथ।

(2) वर्गों के बीच शत्रुता, घृणा या दुर्भावना पैदा करने या बढ़ावा देने वाले बयान –
जो कोई भी धर्म, जाति, जन्म स्थान, निवास, भाषा, जाति या समुदाय के आधार पर बनाने या बढ़ावा देने के इरादे से अफवाह या खतरनाक समाचार वाला कोई बयान या रिपोर्ट बनाता है, प्रकाशित या प्रसारित करता है, या जो बनाने या बढ़ावा देने की संभावना है। किसी भी अन्य आधार पर, विभिन्न धार्मिक, नस्लीय, भाषा या क्षेत्रीय समूहों या जातियों या समुदायों के बीच शत्रुता, घृणा या दुर्भावना की भावना, कारावास से दंडित किया जाएगा जिसे तीन साल तक बढ़ाया जा सकता है, या जुर्माना, या दोनों के साथ।
(3) उप-धारा के तहत अपराध पूजा के स्थान पर किया गया, आदि।
जो कोई भी उप-धारा (2) में निर्दिष्ट अपराध किसी भी पूजा स्थल में या धार्मिक पूजा या धार्मिक समारोहों के प्रदर्शन में लगी हुई एक सभा में करता है, उसे कारावास से दंडित किया जाएगा जिसे पांच साल तक बढ़ाया जा सकता है और जुर्माने के लिए भी उत्तरदायी होगा। .
अपवाद – इस खंड के अर्थ के भीतर यह एक अपराध की राशि नहीं है, जब व्यक्ति इस तरह के बयान, अफवाह या रिपोर्ट को बनाने, प्रकाशित करने या प्रसारित करने के लिए उचित आधार रखता है कि इस तरह के बयान, अफवाह या रिपोर्ट सच है और बनाता है, प्रकाशित करता है या इसे परिचालित करता है 8 [सद्भावना से और बिना किसी पूर्वोक्त इरादे के।

ipc sections hindi english

IPC Section 505 In English

IPC Section 505 – Statements conducing to public mischief.
(1) Whoever makes, publishes or circulates any statement, rumour or report—
(a)
with intent to cause, or which is likely to cause, any offi­cer, soldier, 3[sailor or airman] in the Army, Navy or Air Force of India to mutiny or otherwise disregard or fail in his duty as such; or
(b) with intent to cause, or which is likely to cause, fear or alarm to the public, or to any section of the public whereby any person may be induced to commit an offence against the State or against the public tranquility; or
(c) with intent to incite, or which is likely to incite, any class or community of persons to commit any offence against any other class or community, shall be punished with imprisonment which may extend to 6[three years], or with fine, or with both.

(2) Statements creating or promoting enmity, hatred or ill-will between classes —
Whoever makes, publishes or circulates any statement or report containing rumour or alarming news with intent to create or promote, or which is likely to create or promote, on grounds of religion, race, place of birth, residence, language, caste or community or any other ground whatsoever, feelings of enmity, hatred or ill-will between different reli­gious, racial, language or regional groups or castes or communi­ties, shall be punished with imprisonment which may extend to three years, or with fine, or with both.
(3) Offence under sub-section committed in place of worship, etc. — Whoever commits an offence specified in sub-section (2) in any place of worship or in an assembly engaged in the performance of religious worship or religious ceremonies, shall be punished with imprisonment which may extend to five years and shall also be liable to fine.
Exception— It does not amount to an offence, within the meaning of this section when the person making, publishing or circulating any such statement, rumour or report, has reasonable grounds for believing that such statement, rumour or report is true and makes, publishes or circulates it 8[in good faith and without any such intent as aforesaid.

Note – If you have any issue so prefer only English Verison of this IPC section.

IPC 505 Kya Hai?

Other Important Acts

IPC 501 IN HINDI
IPC 502 IN HINDI
IPC 503 IN HINDI
IPC 504 IN HINDI
IPC 495 IN HINDI
IPC 496 IN HINDI
IPC 497 IN HINDI
IPC 498 IN HINDI
IPC 499 IN HINDI
IPC 500 IN HINDI

तो आपक IPC 505 In Hindi और IPC Section 505 की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने 505 IPC dhara in hindi में इसकी पूरी जानकारी देदी है। बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *