IPC 494 In Hindi | IPC Section 494 in Hindi | आईपीसी धारा 494 क्या है?

इस पोस्ट मे आपको Indian Penal Code (IPC) की IPC 494 In Hindi मे जानकारी दी गई है। इसमे मैने पूरी तरह से IPC 494 In English की पूरी जानकारी मैने दी है।

क्योंकि इसकी जानकारी हर एक अधिवक्ता व वकील को तो होनी ही चाहिए तथा अगर आप पुलिस मे है या फिर आप विधि से संबंधित छात्र हैं तो भी आपको IPC Section 494 In Hindi के बारे मे जानकारी जरूर होनी चाहिए। जिससे की आप कहीं कभी फंसें नहीं और न ही कोई आपको दलीलों में फंसा सके। तो चलिए जानते है IPC Dhara 494 Kya Hai.

Dhara 494 Kya Hai

इस ipcsection.com पोर्टल के माध्यम से यहाँ ipc dhara 494 क्या बताती है? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी और आपको धारा 494 के बारे मे सारी जानकारी हो जाएगी। साथ ही यह पोर्टल IPCSECTION.com पर और भी अन्य प्रकार के भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में मैंने काफी विस्तार से बताया गया है आप उन Posts के माध्यम से अन्य धाराओं यानी section के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

IPC 494 In Hindi

494 IPC In Hindi – पति या पत्नी के जीवनकाल में दोबारा शादी करना।
जो भी, पति या पत्नी के जीवित रहते हुए, किसी भी मामले में विवाह करता है, जिसमें इस तरह के पति या पत्नी के जीवन के दौरान होने के कारण विवाह शून्य हो जाता है, उसे एक अवधि के लिए कारावास से दंडित किया जाएगा जो सात तक बढ़ सकता है। वर्ष, और जुर्माना के लिए भी उत्तरदायी होगा।

अपवाद – यह धारा किसी ऐसे व्यक्ति पर लागू नहीं होती है, जिसका ऐसे पति या पत्नी के साथ विवाह को सक्षम क्षेत्राधिकार के न्यायालय द्वारा शून्य घोषित किया गया हो, और न ही किसी ऐसे व्यक्ति पर, जो पूर्व पति या पत्नी के जीवन के दौरान विवाह अनुबंध करता है, यदि ऐसा पति या पत्नी, बाद के विवाह के समय, ऐसे व्यक्ति से लगातार सात वर्षों तक अनुपस्थित रही होगी, और उस व्यक्ति द्वारा उस समय के भीतर जीवित होने के बारे में नहीं सुना होगा, बशर्ते कि बाद में ऐसा विवाह करने वाला व्यक्ति, इस तरह की शादी होने से पहले, उस व्यक्ति को सूचित करें जिसके साथ ऐसा विवाह अनुबंधित किया गया है, तथ्यों की वास्तविक स्थिति के बारे में जहाँ तक उसकी जानकारी में है।

ipc sections hindi english

IPC Section 494 In English

IPC Section 494 – Marrying again during lifetime of husband or wife.
Whoever, having a husband or wife living, marries in any case in which such marriage is void by reason of its taking place during the life of such husband or wife, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to seven years, and shall also be liable to fine.

Exception — This section does not extend to any person whose marriage with such husband or wife has been declared void by a Court of competent jurisdiction, nor to any person who contracts a marriage during the life of a former husband or wife, if such husband or wife, at the time of the subsequent marriage, shall have been continually absent from such person for the space of seven years, and shall not have been heard of by such person as being alive within that time provided the person contracting such subsequent marriage shall, before such marriage takes place, inform the person with whom such marriage is contracted of the real state of facts so far as the same are within his or her knowledge.

Note – If you have any issue so prefer only English Verison of this IPC section.

IPC 494 Kya Hai?

Other Important Acts

IPC 491 IN HINDI
IPC 492 IN HINDI
IPC 493 IN HINDI
IPC 484 IN HINDI
IPC 485 IN HINDI
IPC 486 IN HINDI
IPC 487 IN HINDI
IPC 488 IN HINDI
IPC 489 IN HINDI
IPC 490 IN HINDI

तो आपक IPC 494 In Hindi और IPC Section 494 की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने 494 IPC dhara in hindi में इसकी पूरी जानकारी देदी है। बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *