IPC 477A In Hindi | IPC Section 477A in Hindi | आईपीसी धारा 477A क्या है?

इस पोस्ट मे आपको Indian Penal Code (IPC) की IPC 477A In Hindi मे जानकारी दी गई है। इसमे मैने पूरी तरह से IPC 477A In English की पूरी जानकारी मैने दी है।

क्योंकि इसकी जानकारी हर एक अधिवक्ता व वकील को तो होनी ही चाहिए तथा अगर आप पुलिस मे है या फिर आप विधि से संबंधित छात्र हैं तो भी आपको IPC Section 477A In Hindi के बारे मे जानकारी जरूर होनी चाहिए। जिससे की आप कहीं कभी फंसें नहीं और न ही कोई आपको दलीलों में फंसा सके। तो चलिए जानते है IPC Dhara 477A Kya Hai.

Dhara 477 A Kya Hai

इस ipcsection.com पोर्टल के माध्यम से यहाँ ipc dhara 477A क्या बताती है? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी और आपको धारा 477 A के बारे मे सारी जानकारी हो जाएगी। साथ ही यह पोर्टल IPCSECTION.com पर और भी अन्य प्रकार के भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में मैंने काफी विस्तार से बताया गया है आप उन Posts के माध्यम से अन्य धाराओं यानी section के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

IPC 477A In Hindi

477A IPC In Hindi – खातों का मिथ्याकरण।
जो कोई, एक लिपिक, अधिकारी या सेवक होते हुए, या एक लिपिक, अधिकारी या नौकर की हैसियत से नियोजित या कार्य कर रहा है, जानबूझकर, और किसी पुस्तक, इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड, कागज, लेखन को धोखा देने, नष्ट करने, बदलने, विकृत करने या गलत करने के इरादे से, मूल्यवान सुरक्षा या खाता जो उसके नियोक्ता से संबंधित है या उसके कब्जे में है, या उसके द्वारा अपने नियोक्ता की ओर से प्राप्त किया गया है, या जानबूझकर, और धोखाधड़ी करने के इरादे से, किसी भी झूठी प्रविष्टि को बनाने या उकसाने के इरादे से, या ऐसे किसी भी पुस्तक, इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड, कागज, लेखन, मूल्यवान सुरक्षा या खाते से या में किसी भी सामग्री विशेष के लोप या परिवर्तन को छोड़ देता है या बदल देता है या उकसाता है, दोनों में से किसी भी विवरण के कारावास से दंडित किया जाएगा जो कि हो सकता है सात साल तक बढ़ाया जा सकता है, या जुर्माना, या दोनों के साथ।

स्पष्टीकरण – इस धारा के तहत किसी भी आरोप में यह पर्याप्त होगा कि धोखाधड़ी के इरादे से किसी विशेष व्यक्ति का नाम लिए बिना धोखाधड़ी के सामान्य इरादे का आरोप लगाया जाए या धोखाधड़ी का विषय होने के इरादे से किसी विशेष राशि को निर्दिष्ट किया जाए, या किसी विशेष दिन को अपराध किया गया था।

ipc sections hindi english

IPC Section 477A In English

IPC Section 477A – Falsification of accounts.
Whoever, being a clerk, offi­cer or servant, or employed or acting in the capacity of a clerk, officer or servant, wilfully, and with intent to defraud, de­stroys, alters, mutilates or falsifies any book, electronic record, paper, writing, valuable security or account which belongs to or is in the pos­session of his employer, or has been received by him for or on behalf of his employer, or wilfully, and with intent to defraud, makes or abets the making of any false entry in, or omits or alters or abets the omission or alteration of any material particular from or in, any such 2[book, electronic record, paper, writing], valuable security or account, shall be punished with imprisonment of either descrip­tion for a term which may extend to seven years, or with fine, or with both.

Explanation— It shall be sufficient in any charge under this section to allege a general intent to defraud without naming any particular person intended to be defrauded or specifying any particular sum of money intended to be the subject of the fraud, or any particular day on which the offence was committed.

Note – If you have any issue so prefer only English Verison of this IPC section.

IPC 477A Kya Hai?

Other Important Acts

IPC 471 IN HINDI
IPC 472 IN HINDI
IPC 473 IN HINDI
IPC 474 IN HINDI
IPC 475 IN HINDI
IPC 476 IN HINDI
IPC 477 IN HINDI
IPC 468 IN HINDI
IPC 469 IN HINDI
IPC 470 IN HINDI

तो आपक IPC 477A In Hindi और IPC Section 477A की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने 477A IPC dhara in hindi में इसकी पूरी जानकारी देदी है। बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *