IPC 331 In Hindi | IPC Section 331 in Hindi | आईपीसी धारा 331 क्या है?

इस पोस्ट मे आपको Indian Penal Code (IPC) की IPC 331 In Hindi मे जानकारी दी गई है। इसमे मैने पूरी तरह से IPC 331 In English की पूरी जानकारी मैने दी है।

क्योंकि इसकी जानकारी हर एक अधिवक्ता व वकील को तो होनी ही चाहिए तथा अगर आप पुलिस मे है या फिर आप विधि से संबंधित छात्र हैं तो भी आपको IPC Section 331 In Hindi के बारे मे जानकारी जरूर होनी चाहिए। जिससे की आप कहीं कभी फंसें नहीं और न ही कोई आपको दलीलों में फंसा सके। तो चलिए जानते है IPC 331 Kya Hai.

Dhara 331 Kya Hai

इस ipcsection.com पोर्टल के माध्यम से यहाँ ipc dhara 331 क्या बताती है? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी और आपको धारा 331 के बारे मे सारी जानकारी हो जाएगी। साथ ही यह पोर्टल IPCSECTION.com पर और भी अन्य प्रकार के भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में मैंने काफी विस्तार से बताया गया है आप उन Posts के माध्यम से अन्य धाराओं यानी section के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

IPC 331 In Hindi

331 IPC In Hindi – स्वीकारोक्ति जबरन वसूली करने के लिए, या संपत्ति की बहाली के लिए मजबूर करने के लिए स्वेच्छा से गंभीर चोट पहुँचाना।
जो कोई भी स्वेच्छा से पीड़ित से या पीड़ित में रुचि रखने वाले किसी भी व्यक्ति से किसी भी स्वीकारोक्ति या किसी भी जानकारी के लिए गंभीर चोट का कारण बनता है, जिससे किसी अपराध या कदाचार का पता चल सकता है, या पीड़ित या किसी भी इच्छुक व्यक्ति को विवश करने के उद्देश्य से पीड़ित व्यक्ति में किसी संपत्ति या मूल्यवान सुरक्षा को बहाल करने या बहाल करने के लिए, या किसी भी दावे या मांग को पूरा करने के लिए या ऐसी जानकारी देने के लिए जिससे किसी संपत्ति या मूल्यवान सुरक्षा की बहाली हो सकती है, दोनों में से किसी भी विवरण के कारावास से दंडित किया जाएगा। एक अवधि जो दस साल तक बढ़ सकती है, और जुर्माना के लिए भी उत्तरदायी होगा।

ipc sections hindi english

IPC Section 331 In English

IPC Section 331 – Voluntarily causing grievous hurt to extort confession, or to compel restoration of property.
Whoever voluntarily causes grievous hurt for the purpose of extorting from the sufferer or from any person interested in the sufferer any confession or any information which may lead to the detection of an offence or misconduct, or for the purpose of constraining the sufferer or any person interested in the sufferer to restore or to cause the restoration of any property or valuable security, or to satisfy any claim or demand or to give information which may lead to the restoration of any property or valuable security, shall be pun­ished with imprisonment of either description for a term which may extend to ten years, and shall also be liable to fine.

आईपीसी धारा 331 क्या है?

Other Important Acts

IPC 321 IN HINDI
IPC 322 IN HINDI
IPC 323 IN HINDI
IPC 324 IN HINDI
IPC 325 IN HINDI
IPC 326 IN HINDI
IPC 327 IN HINDI
IPC 328 IN HINDI
IPC 329 IN HINDI
IPC 330 IN HINDI

तो आपक IPC 331 In Hindi और IPC Section 331 की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने 331 IPC dhara in hindi में इसकी पूरी जानकारी देदी है। बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *