IPC 315 In Hindi | IPC Section 315 in Hindi | आईपीसी धारा 315 क्या है?

इस पोस्ट मे आपको Indian Penal Code (IPC) की IPC 315 In Hindi मे जानकारी दी गई है। इसमे मैने पूरी तरह से IPC 315 In English की पूरी जानकारी मैने दी है।

क्योंकि इसकी जानकारी हर एक अधिवक्ता व वकील को तो होनी ही चाहिए तथा अगर आप पुलिस मे है या फिर आप विधि से संबंधित छात्र हैं तो भी आपको IPC Section 315 In Hindi के बारे मे जानकारी जरूर होनी चाहिए। जिससे की आप कहीं कभी फंसें नहीं और न ही कोई आपको दलीलों में फंसा सके। तो चलिए जानते है IPC 315 Kya Hai.

Dhara 315 Kya Hai

इस ipcsection.com पोर्टल के माध्यम से यहाँ ipc dhara 315 क्या बताती है? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी और आपको धारा 315 के बारे मे सारी जानकारी हो जाएगी। साथ ही यह पोर्टल IPCSECTION.com पर और भी अन्य प्रकार के भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में मैंने काफी विस्तार से बताया गया है आप उन Posts के माध्यम से अन्य धाराओं यानी section के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

IPC 315 In Hindi

315 IPC In Hindi – बच्चे को जीवित पैदा होने से रोकने या जन्म के बाद उसकी मृत्यु कारित करने के आशय से किया गया कार्य।
जो कोई भी बच्चे के जन्म से पहले उस बच्चे को जीवित पैदा होने से रोकने या उसके जन्म के बाद उसकी मृत्यु का कारण बनने के इरादे से कोई कार्य करता है, और इस तरह के कार्य से उस बच्चे को जीवित पैदा होने से रोकता है, या उसके बाद उसकी मृत्यु हो जाती है उसका जन्म, यदि इस तरह का कृत्य मां के जीवन को बचाने के उद्देश्य से नेकनीयती से नहीं किया जाता है, तो उसे किसी एक अवधि के लिए कारावास जिसे दस वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है, या जुर्माना, या दोनों के साथ दंडित किया जा सकता है।

ipc sections hindi english

IPC Section 315 In English

IPC Section 315 – Act done with the intent to prevent a child from being born alive or to cause it to die after birth.
Whoever before the birth of any child does any act with the intention of thereby preventing that child from being born alive or causing it to die after its birth, and does by such act prevent that child from being born alive, or causes it to die after its birth, shall, if a such act be not caused in good faith for the purpose of saving the life of the mother, be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to ten years, or with fine, or with both.

आईपीसी धारा 315 क्या है?

Other Important Acts

IPC 311 IN HINDI
IPC 312 IN HINDI
IPC 313 IN HINDI
IPC 314 IN HINDI
IPC 305 IN HINDI
IPC 306 IN HINDI
IPC 307 IN HINDI
IPC 308 IN HINDI
IPC 309 IN HINDI
IPC 310 IN HINDI

तो आपक IPC 315 In Hindi और IPC Section 315 की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने 315 IPC dhara in hindi में इसकी पूरी जानकारी देदी है। बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *