IPC 183 In Hindi | IPC Section 183 in Hindi | आईपीसी धारा 183 क्या है

इस पोस्ट मे आपको Indian Penal Code (IPC) की IPC 183 In Hindi मे जानकारी दी गई है। इसमे मैने पूरी तरह से IPC 183 In English की पूरी जानकारी मैने दी है।

क्योंकि इसकी जानकारी हर एक अधिवक्ता व वकील को तो होनी ही चाहिए तथा अगर आप पुलिस मे है या फिर आप विधि से संबंधित छात्र हैं तो भी आपको IPC Section 183 In Hindi के बारे मे जानकारी जरूर होनी चाहिए। जिससे की आप कहीं कभी फंसें नहीं और न ही कोई आपको दलीलों में फंसा सके। तो चलिए जानते है IPC 183 Kya Hai.

Dhara 183 Kya Hai

इस ipcsection.com पोर्टल के माध्यम से यहाँ धारा 183 क्या बताती है ? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी और आपको धारा 183 IPC In Hindi के बारे मे सारी जानकारी हो जाएगी। साथ ही यह पोर्टल www.ipcsection.com पर और भी अन्य प्रकार के भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में मैंने काफी विस्तार से बताया गया है आप उन Posts के माध्यम से अन्य धाराओं यानी section के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

IPC 183 In Hindi

IPC Dhara 183 – किसी लोक सेवक के वैध प्राधिकार द्वारा संपत्ति लेने का विरोध।
जो कोई भी किसी लोक सेवक के वैध प्राधिकारी द्वारा किसी संपत्ति को लेने का विरोध करता है, यह जानते हुए या विश्वास करने का कारण है कि वह ऐसा लोक सेवक है, उसे किसी भी प्रकार के कारावास से दंडित किया जाएगा, जिसकी अवधि छह महीने तक हो सकती है, या जुर्माने से, जो एक हजार रुपये तक हो सकता है, या दोनों से।

IPC Section 183 In English

IPC Section 183 – Resistance to the taking of property by the lawful authority of a public servant.
Whoever offers any resistance to the taking of any property by the lawful authority of any public servant, knowing or having reason to believe that he is such public serv­ant, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to six months, or with fine which may extend to one thousand rupees, or with both.

आईपीसी धारा 183 क्या है

183 IPC मे किसी लोक सेवक के वैध प्राधिकार द्वारा संपत्ति लेने का विरोधके बारे मे बताया गया है। जिसमे जो कोई भी किसी लोक सेवक के वैध प्राधिकारी द्वारा किसी संपत्ति को लेने का विरोध करता है, यह जानते हुए या विश्वास करने का कारण है कि वह ऐसा लोक सेवक है, उसे किसी भी प्रकार के कारावास से दंडित किया जाएगा।

अन्य महत्वपूर्ण धाराएं

IPC 181 IN HINDI
IPC 182 IN HINDI
IPC 173 IN HINDI
IPC 174 IN HINDI
IPC 175 IN HINDI
IPC 176 IN HINDI
IPC 177 IN HINDI
IPC 178 IN HINDI
IPC 179 IN HINDI
IPC 180 IN HINDI

तो आपक IPC 183 In Hindi और IPC Section 183 In Hindi की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने IPC Dhara 183 Kya Hota Hai इसकी पूरी जानकारी देदी है। बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Leave a Comment