IPC 113 In Hindi | IPC Section 113 in Hindi | आईपीसी धारा 113 क्या है

इस पोस्ट मे आपको Indian Penal Code (IPC) की IPC 113 In Hindi मे जानकारी दी गई है। इसमे मैने पूरी तरह से IPC 113 In English की पूरी जानकारी मैने दी है।

क्योंकि इसकी जानकारी हर एक अधिवक्ता व वकील को तो होनी ही चाहिए तथा अगर आप पुलिस मे है या फिर आप विधि से संबंधित छात्र हैं तो भी आपको IPC Section 113 In Hindi के बारे मे जानकारी जरूर होनी चाहिए। जिससे की आप कहीं कभी फसें नहीं और न ही कोई आपको दलीलो मे फंसा सके। तो चलिए जानते है IPC 113 Kya Hai.

Dhara 113 Kya Hai

इस ipcsection.com पोर्टल के माध्यम से यहाँ धारा 113 क्या बताती है ? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी और आपको धारा 113 IPC In Hindi के बारे मे सारी जानकारी हो जाएगी। साथ ही यह पोर्टल www.ipcsection.com पर और भी अन्य प्रकार के भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में मैने काफी विस्तार से बताया गया है आप उन Posts के माध्यम से अन्य धाराओं यानी section के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

IPC 113 In Hindi

IPC Dhara 113 – दुष्प्रेरक द्वारा किए गए आशय से भिन्न दुष्प्रेरक के कार्य के कारण हुए प्रभाव के लिए दुष्प्रेरक का दायित्व।
जब किसी कार्य को दुष्प्रेरक की ओर से किसी विशेष प्रभाव को उत्पन्न करने के इरादे से उकसाया जाता है, और एक ऐसा कार्य जिसके लिए दुष्प्रेरक के परिणाम में दुष्प्रेरक उत्तरदायी होता है, जो दुष्प्रेरक द्वारा इच्छित प्रभाव से भिन्न प्रभाव उत्पन्न करता है, तो दुष्प्रेरक उत्तरदायी होता है प्रभाव के लिए, उसी तरीके से और उसी हद तक जैसे कि उसने उस प्रभाव को पैदा करने के इरादे से अधिनियम को उकसाया था, बशर्ते कि वह जानता था कि उकसाया गया कार्य उस प्रभाव का कारण बन सकता है।

चित्रण
ए, बी को जेड को गंभीर चोट पहुंचाने के लिए उकसाता है। बी, उत्तेजना के परिणामस्वरूप, जेड को गंभीर चोट पहुंचाता है। जेड परिणाम में मर जाता है। यहां, यदि ए जानता था कि गंभीर चोट के कारण मौत होने की संभावना है, तो ए हत्या के लिए प्रदान की गई सजा से दंडित होने के लिए उत्तरदायी है।
अपराध दंड का वर्गीकरण-
किए गए अपराध के समान ही—जैसा कि उकसाया गया अपराध संज्ञेय या गैर-संज्ञेय है—जैसा कि उकसाया गया अपराध जमानती या गैर-जमानती है—अदालत द्वारा विचारणीय जिसके द्वारा उकसाया गया अपराध विचारणीय है—गैर-संज्ञेय।

IPC Section 113 In English

IPC Section 113 – Liability of abettor for an effect caused by the act abetted different from that intended by the abettor.
When an act is abetted with the intention on the part of the abettor of causing a particular effect, and an act for which the abettor is liable in consequence of the abetment, caused a different effect from that intended by the abettor, the abettor is liable for the effect caused, in the same manner and to the same extent as if he had abetted the act with the intention of causing that effect, provided he knew that the act abetted was likely to cause that effect.

Illustration
A instigates B to cause grievous hurt to Z. B, in consequence of the instigation, causes grievous hurt to Z. Z dies in conse­quence. Here, if A knew that the grievous hurt abetted was likely to cause death, A is liable to be punished with the punishment provided for murder.
CLASSIFICATION OF OFFENCE Punishment—
Same as for offence committed—According as offence abetted is cognizable or non-cognizable—According as offence abetted is bailable or non-bailable—Triable by court by which offence abetted is triable—Non-compoundable.

आईपीसी धारा 113 क्या है

113 IPC मे शब्द दुष्प्रेरक द्वारा किए गए आशय से भिन्न दुष्प्रेरक के कार्य के कारण हुए प्रभाव के लिए दुष्प्रेरक का दायित्वके बारे मे बताया गया है। जिसमे जब किसी कार्य को दुष्प्रेरक की ओर से किसी विशेष प्रभाव को उत्पन्न करने के इरादे से उकसाया जाता है, और एक ऐसा कार्य जिसके लिए दुष्प्रेरक के परिणाम में दुष्प्रेरक उत्तरदायी होता है, जो दुष्प्रेरक द्वारा इच्छित प्रभाव से भिन्न प्रभाव उत्पन्न करता है।

अन्य महत्वपूर्ण धाराएं

IPC 111 IN HINDI
IPC 112 IN HINDI
IPC 103 IN HINDI
IPC 104 IN HINDI
IPC 105 IN HINDI
IPC 106 IN HINDI
IPC 107 IN HINDI
IPC 108 IN HINDI
IPC 109 IN HINDI
IPC 110 IN HINDI

तो आपक IPC 113 In Hindi और IPC Section 113 In Hindi की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने IPC Dhara 113 Kya Hota Hai इसकी पूरी जानकारी देदी है। बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Leave a Comment